बच्चो के लिए मसीही धार्मिक प्रश्नोत्तरी (Catechism for Children)

1. Who made you?
A. God made me (Gn 1:26, 27; 2:7; Ec 12:1; Acts 17:24-29).
1. आपको किसने बनाया?
उत्तर: मुझे परमेश्वर ने बनाया।
2. What else did God make?
A. God made all things (Gn 1, esp. verses 1, 31; Acts 14:15; Rm 11:36; Col 1:16).
2. परमेश्वर ने और क्या-क्या बनाया ?
उत्तर: परमेश्वर ने सब कुछ बनाया।
3. Why did God make you and all things?
A. For his own glory (Ps 19:1; Jer 9:23, 24; Rv 4:11).
3. परमेश्वर ने सब कुछ क्यों बनाया ?
उत्तर: खुद की महिमा के लिए।
4. How can you glorify God?
A. By loving him and obeying Him (Ec 12:13; Mk 12:29-31; Jn 15:8-10; 1 Cor 10:31).
4. आप परमेश्वर की महिमा कैसे कर सकते हैं ?
उत्तर: उससे प्यार करके और उसकी आज्ञाओं को मान कर।
5. Why should you glorify God?
A. Because he made me and takes care of me (Rm 11:36; Rv 4:11; cf. Dan 4:37).
5. आपको परमेश्वर की महिमा क्यों करनी चाहिए ?
उत्तर: क्योंकि उसने मुझे बनाया और वो मेरी देख-भाल करता है।
6. How many gods are there?
A. There is only one God (Deut 6:4; Jer 10:10; Mk 12:29; Acts 17:22-31).
6. कितने ईश्वर हैं ?
उत्तर: एक ही परमेश्वर है।
7. What is the name of this one God?
A. Yahweh, i.e. I Am (Ex 3:14; Jn 8:58).
7. इस एक परमेश्वर का नाम क्या है ?
उत्तर: याहवे अर्थात मैं हूँ।
8. In how many persons does this one God exist?
A. In three persons (Mt 3:16, 17; Jn 5:23; 10:30; 14:9, 10; 15:26; 16:13-15; 1 Jn 5:20; Rv 1:4, 5).
8. ये एक परमेश्वर कितने व्यक्तियों में (विद्यमान) है ?
उत्तर: तीन व्यक्तियों में।
9. Who are these three persons?
A. The Father, the Son and the Holy Spirit (Mt 28:19; 2 Cor 13:14; 1 Pet 1:2; Jude 20, 21).
9. वो तीन व्यक्ति कौन है?
उत्तर: पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा।
10. Who is God?
A. God is a Spirit, and does not have a body like men (Jn 4:24; 2 Cor 3:17; 1 Tim 1:17).
10. परमेश्वर कौन है ?
परमेश्वर आत्मा है और उसके पास मनुष्यों जैसा शरीर नहीं है।
11. Where is God?
A. God is everywhere (Ps 139:7-12; Jer 23:23,24; Acts 17:27,28).
11. परमेश्वर कहाँ है ?
उत्तर: परमेश्वर हर जगह है।
12. Can you see God?
A. No. I cannot see God, but he always sees me. (John 1:18)
12. क्या आप परमेश्वर को देख सकते हैं?
उ. नहीं, मैं परमेश्वर को नहीं देख सकता, लेकिन वह हमेशा मुझे देखता है। (यूहन्ना 1:18)
13. Does God know all things?
A. Yes. Nothing can be hidden from God. (Prov 15:3)
13. क्या परमेश्वर सब कुछ जानता है?
उ. हाँ। परमेश्वर से कुछ भी छुपाया नहीं जा सकता। (नीतिवचन 15:3)
14. Can God do all things?
A. Yes. God can do all his holy will. (Jer 32:17)
14. क्या परमेश्वर सब कुछ कर सकता है?
उ. हाँ। परमेश्वर अपनी सारी पवित्र इच्छा पूरी कर सकता है। (यिर्म 32:17)
15. Where do you learn how to love and obey God?
A. We learn to love and obey God from the Bible alone. (1 John 2:4-5a)
15. आप परमेश्वर से प्रेम करना और उसकी आज्ञा का पालन करना कहाँ से सीखते हैं?
उ. हम केवल बाइबल से ही परमेश्वर से प्रेम और आज्ञापालन करना सीखते हैं। (1 यूहन्ना 2:4-5क)
16. Who wrote the Bible?
A. God let holy men who were taught by the Holy Spirit write the Bible. (2 Pet 1:21)
16. बाइबल किसने लिखी?
उ. परमेश्वर पवित्र आत्मा ने पवित्र लोगों को प्रेरित करके बाइबल लिखवाई। (2 पतरस 1:21)
17. Who were our first parents?
A. Adam and Eve were our first parents. (1 Tim 2:13)
17. हमारे प्रथम माता-पिता कौन थे?
उ.आदम और हव्वा हमारे प्रथम माता-पिता थे। (1 तीमुथियुस 2:13)
18. Of what were our first parents made?
A. God made the body of Adam from the dust of the ground, and formed Eve from the body of Adam. (Gen 2:7, 21-22)
18. हमारे प्रथम माता-पिता किससे बने थे?
उ.परमेश्वर ने आदम की देह को भूमि की मिट्टी से बनाया और हव्वा को आदम की देह से बनाया। (उत्पत्ति 2:7, 21-22)
19. What did God give Adam and Eve besides bodies?
A. God gave Adam and Eve souls that could never die. (Ecc 12:7)
19. परमेश्वर ने आदम और हव्वा को शरीर के अलावा क्या दिया?
उ. परमेश्वर ने आदम और हव्वा को ऐसे आत्मा दिए जो कभी नहीं मर सकते। (सभो 12:7)
20. Do you have a soul as well as a body?
A. Yes, I have a soul that can never die. (Matt 10:28)
20. क्या आपके पास शरीर के साथ-साथ आत्मा भी है?
उ. हाँ। मेरे पास एक आत्मा है जो कभी नहीं मर सकता। (मत्ती10:28)
21. In what condition did God make Adam and Eve?
A. God made Adam and Eve holy and happy. (Gen 1:28)
21. परमेश्वर ने आदम और हव्वा को किस अवस्था में बनाया?
उ. परमेश्वर ने आदम और हव्वा को पवित्र और खुश बनाया। (जनरल 1:28)
22. Did Adam and Eve stay holy and happy?
A. No. They sinned against God. (Rom 5:12)
22. क्या आदम और हव्वा पवित्र और खुश रहे?
उ. नहीं। उन्होंने परमेश्वर के विरुद्ध पाप किया। (रोम 5:12)
23. What was the sin of our first parents?
A. They sinned against God by eating the forbidden fruit. (Gen 2:16-17)
23. हमारे प्रथम माता-पिता का पाप क्या था?
उ.उन्होंने वर्जित फल खाकर परमेश्वर के विरुद्ध पाप किया। (उत्पत्ति 2:16-17)
24. Why did they eat the forbidden fruit?
A. They ate the forbidden fruit because they did not believe what God had said. (Gen 3:6)
24. उन्होंने वर्जित फल क्यों खाया?
उ.उन्होंने वर्जित फल खाया क्योंकि उन्होंने परमेश्वर की कही हुई बात पर विश्वास नहीं किया। (उत्पत्ति 3:6)
25. Who tempted them to this sin?
A. Satan tempted Eve, and she gave the fruit to Adam. (Gen 3:1)
25. किसने उन्हें इस पाप के लिए प्रलोभन दिया?
उ.शैतान ने हव्वा को प्रलोभित किया और उसने आदम को फल दिया। (उत्पत्ति 3:1)
26. What happened to our first parents when they sinned?
A. Instead of being holy and happy, they became sinful and miserable. (Gen 3:19)
26. जब हमारे पहले माता-पिता ने पाप किया तो उनके साथ क्या हुआ?
उ.वे पवित्र और खुश रहने के बजाय पापी और दुखी हो गए। (उत्पत्ति 3:19)
27. What effect did the sin of Adam have on all people?
A. All people are born in a state of sin and misery. (Rom 5:19a)
27. आदम के पाप का सभी लोगों पर क्या असर हुआ?
उ.सभी लोग पाप और दुख की अवस्था में पैदा होते हैं। (रोम 5:19क)
28. What do we inherit from Adam as a result of original sin?
A. We inherit a sinful nature from Adam as a result of original sin. (Ecc 9:3b)
28. मूल पाप के परिणामस्वरूप हमें आदम से क्या विरासत में मिला है?
उ. मूल पाप के परिणामस्वरूप हमें आदम से पापी स्वभाव विरासत में मिला है। (सभोपदेशक 9:3ख)
29. What is sin?
A. Sin is failing to do what God commands. (1 John 3:4)
29. पाप क्या है?
उ.परमेश्वर की आज्ञा का उल्लंघन पाप है। (1 यूहन्ना 3:4)
30. In what ways do we sin?
A. We sin in thought, word and deed. (Matt 15:18-20)
30. हम किन तरीकों से पाप करते हैं?
उ.हम मन, वचन और कर्म से पाप करते हैं। (मत्ती 15:18-20)
(इसमें प्रश्न जुड़ते रहेंगे।)

4 comments

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *