परमेश्वर अपने विधानों (decrees) को कैसे पूरा करता है ? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-8)

8. परमेश्वर अपने विधानों (decrees) को कैसे पूरा करता है ? उत्तर: परमेश्वर अपने विधानों को सृष्टि निर्माण  (प्रकाशितवाक्य 4:11) और उसके   प्रबंधन  (रखरखाव) (दानिय्येल 4:35) के कामों में पूरा करता है? साक्षी आयतें: “हे हमारे प्रभु और परमेश्वर, तू ही महिमा और आदर और सामर्थ्य के योग्य है; क्योंकि तू ही ने सब वस्तुएँ सृजीं… Continue reading परमेश्वर अपने विधानों (decrees) को कैसे पूरा करता है ? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-8)

परमेश्वर के विधान (decrees) क्या हैं ? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-7)

परमेश्वर के विधान (decrees) क्या हैं ? उत्तर: परमेश्वर के विधान उसकी अपनी ही इच्छा के मत के अनुसार अनादि उद्देश्य हैं, जिसके द्वारा उसने जो कुछ भी होता है, उस सब को पूर्वनिर्धारित किया है। (इफिसियों 1:11-12) साक्षी आयतें: उसी में जिसमें हम भी उसी की मनसा से जो अपनी इच्छा के मत के अनुसार… Continue reading परमेश्वर के विधान (decrees) क्या हैं ? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-7)

परमेश्वरत्व में कितने व्यक्ति हैं ? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-6)

उत्तर: परमेश्वरत्व में तीन व्यक्ति हैं: पिता, पुत्र और पवित्र आत्मा।  ये तीनों एक परमेश्वर है: अस्तित्व में एक समान और सामर्थ और महिमा में बराबर। (1 यूहन्ना 5:7; मत्ती 28:19) साक्षी आयतें: स्वर्ग में गवाही देनेवाले तीन हैं, पिता, वचन, और पवित्र आत्मा; और ये तीनों एक हैं। (1 यूहन्ना 5:7) इसलिये तुम जाओ,… Continue reading परमेश्वरत्व में कितने व्यक्ति हैं ? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-6)

क्या एक से ज्यादा ईश्वर हैं ? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-5)

उत्तर: नहीं, केवल एक ही (व्यवस्थाविवरण 6:4) जीवित और सच्चा परमेश्वर (यिर्मयाह 10:10) है। साक्षी आयतें: हे इस्राएल, सुन, यहोवा हमारा परमेश्‍वर है, यहोवा एक ही है (व्यवस्थाविवरण 6:4) परन्तु यहोवा वास्तव में परमेश्‍वर है; जीवित परमेश्‍वर और सदा का राजा वही है। उसके प्रकोप से पृथ्वी काँपती है, और जाति जाति के लोग उसके… Continue reading क्या एक से ज्यादा ईश्वर हैं ? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-5)

परमेश्वर क्या है? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-4)

4. परमेश्वर क्या है? उत्तर: परमेश्वर आत्मा है  (यूहन्ना 4:24), जो कि अपने अस्तित्व (निर्गमन 3:14), बुद्धि, सामर्थ (भजन सहिंता 147:5) , पवित्रता  (प्रकाशितवाक्य 4:8), न्याय, भलाई और सच्चाई (निर्गमन 34:6-7) में अनंत (अय्यूब 11:7), अनादि, अमर (भजन 90:2; 1 तीमुथियुस 1:17), और अपरिवर्तनशील (याकूब1:17)  है। साक्षी आयतें: परमेश्‍वर आत्मा है, और अवश्य है कि उसकी… Continue reading परमेश्वर क्या है? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-4)

पवित्रशास्त्र मुख्य रूप से क्या सिखाता है ? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-3)

3. पवित्रशास्त्र मुख्य रूप से क्या सिखाता है ? उत्तर: पवित्र शास्त्र मुख्य रूप से यह सिखाता है कि मनुष्य को परमेश्वर के विषय में क्या विश्वास करना है और मनुष्य के परमेश्वर के प्रति क्या कर्तव्य हैं। (2 तीमुथियुस 1:13; सभोपदेशक 12:13) साक्षी आयतें: जो खरी बातें तू ने मुझ से सुनी हैं उनको… Continue reading पवित्रशास्त्र मुख्य रूप से क्या सिखाता है ? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-3)

परमेश्वर ने कौनसा अधिकृत साधन दिया है जो हमे सिखाता है कि उसकी महिमा कैसे करें उसमें आनंदित कैसे रहें? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-2)

2. परमेश्वर ने कौनसा अधिकृत साधन दिया है जो हमे सिखाता है कि उसकी महिमा कैसे करें उसमें आनंदित कैसे रहें? उत्तर: पुराने नियम और नए नियम के पवित्रशास्त्र में निहित परमेश्वर का वचन (इफिसियों 2:20; 2 तीमुथियुस 3:16) ही एक मात्र अधिकृत साधन है जो सिखाता है कि हम कैसे उसकी महिमा करें और… Continue reading परमेश्वर ने कौनसा अधिकृत साधन दिया है जो हमे सिखाता है कि उसकी महिमा कैसे करें उसमें आनंदित कैसे रहें? (चार्ल्स स्पर्जन प्रश्नोत्तरी-2)

परमेश्वर की एकान्तता (Solitariness of God)

लेखक: ए. डब्ल्यू. पिंक (“परमेश्वर के गुण” नामक पुस्तक से)  अनुवादक: पंकज (1) शायद अध्याय का शीर्षक इसके विषय को  इंगित करने के लिए पर्याप्त रूप से स्पष्ट नहीं है। इसका कुछ कारण तो यह है कि बहुत कम लोगों में परमेश्वर के वैयक्तिक सिद्ध गुणों पर ध्यान करने की आदत है।  तुलनात्मक रूप से… Continue reading परमेश्वर की एकान्तता (Solitariness of God)

क्या परमेश्वर पछताता है और अपनी इच्छा बदलता है?

क्या परमेश्वर पछताता है और अपनी इच्छा बदलता है? पहली बात तो ये प्रश्न पूछना ही गलत, अतार्किक है, मूर्खतापूर्ण है। ये प्रश्न पूछना ऐसा है जैसे कोई पूछे कि उजाला अँधेरा होता है क्या ? यदि कोई कहे कि परमेश्वर पछताता है या अपनी इच्छा बदल देता है, तो मुझे जोर से गुस्सा आता… Continue reading क्या परमेश्वर पछताता है और अपनी इच्छा बदलता है?

मसीह हमारा नबी

  मसीह हमारे लिए वो सब कुछ है जिसकी हमको जरुरत है और अनंत और भी। मेरे दुसरे लेख https://logosinhindi.com/प्रभु-यीशु-मसीह-हमारा-सब-क/ में आप 28 वो चीज़ें पढ़ सकते हैं जो मसीह हमारे लिए हैं। इस लेख में मैं उनमे से सिर्फ एक के बारे में थोड़ा विस्तार से बताना चाहता हूँ। मसीह हमारा नबी: आइये चार्ल्स स्पर्जन… Continue reading मसीह हमारा नबी